मैं हूं थाली

मैं हूं थाली,पिछले कुछ महीनों में,सबसे गरीब लोगों के घर मेंमैं ज़्यादा ही खाली होती गईऔर सबसे अमीर लोगों के घर मेंज़रूरत से ज़्यादा भरती गईमिडल क्लास मुझेबजाते रहेऔर नेता उनकी थाली में डोनेशनके नाम पर छेद करकेअपने लिए नए महलबनाते गएमैं हूं थाली।