Hindi Poetry · Hindi Translation · My Inspirations · Uncategorized

यह कैसा समय है? (हिन्दी अनुवाद)

Original – What Kind Of Times Are These? By Adrienne Rich

नोट: यह शब्दशः अनुवाद नहीं है, रूह को पकड़ने की कोशिश है ।

यहां से कुछ दूर पर एक जगह है, जहां दो रास्ते मिलते हैं,
एक रास्ते पर दो काफ़ी लंबे पेड़ों के बीच हरी घांस अब भी उग रही है
और दूसरे रास्ते पर क्रांतिकारी आवाज़ें बीते हुए कल के अंधेरे में शांत हो गई है
उन दोनों रास्तों के बीचों बीच आवाज़ उठाने वाले लोगों के मिलने का एक कमरा है, जहां सालों से कोई नहीं आया
वो लोग भी अपनी आवाजों की तरह कल के अंधेरे में कहीं गायब कर दिए गए हैं

मैं कई बार उस डर की सीमा तक फल तोड़ने गया हूं,
यह गलतफहमी मत पालना की मैं कोई रूसी कविता पढ़ रहा हूं, ये जगह और कहीं नहीं…यहीं है,
हमारा देश प्रतिदिन खुद ही के सच… डरवाने सच की ओर बढ़ता जा रहा है
यहां के अपने तरीक़े हैं लोगों को…आवाज़ उठाने वाले लोगों को गायब करने के

मैं तुम्हें यह नहीं बताऊंगा कि यह जगह कहां है, जहां एक कण उजाले को भी अंधेरे के जाल में फंसाया जाता है-
भूतिया चौराहे, हरे भरे  उपवन जैसे बेचे जाते हैं
मुझे तो पहले ही पता है, कौन उसे खरीदता, बेचता और गायाब करता है

पर मैं तुम्हें यह नहीं बताऊंगा कि यह जगह कहां है,
फिर मैं तुमको बाकी सब क्यों बता रहा हूं?
क्योंकि मुझे पता है कि तुम अब भी सुन रहे हो,
क्योंकि इस भयावह समय में तुम्हारा सुनना ही सबसे
ज़रूरी है…
पेड़ों के बारे में ध्यान से सुनना और घास की तरह उगते जाना सबसे ज़रूरी है

अंग्रेज़ी में यहां पढ़े- https://www.poetryfoundation.org/poems/51092/what-kind-of-times-are-these